ज़हर

तुम्हारे दिल का जो ज़हर है,
इसका बहुत बड़ा कहर है
छोटी छोटी चिंगारियां उठती है,
जो मिलकर एक दिन सब भस्म कर देती है ॥