कुछ

इतना ज़हर मत दो की मैं तड़पता ज़िंदा रहूँ
इतनी दवा मत दो की मैं तड़पता मर जाऊ ॥